ComputerTUTORIALS

इन्टरनेट क्या है (Internet kya hai) – What is internet in hindi

internet kya hai

नमस्कार दोस्तों आज का हमारा topic है इन्टरनेट क्या है (what is internet in hindi). इस लेख में हम internet के बारे में पूरे विस्तार में जानेगे |

दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है कि हर वक़्त जो हम internet का उपयोग करते रहते हैं, आखिर ये कैसे शुरू हुआ , इसका संस्थापक कौन है और ये हम तक कैसे पहुँचता है |

या फिर आपने कभी ये सोचा है कि जिसे हम internet कहते हैं | आखिर ये internet kya hai, ये कैसे बनता है और इसे कैसे पूरे विश्व में फैलाया गया |

आज के इस समय में अधिकतर हर कोई Android phone , Multimedia phone , I-Phone आदि का इस्तेमाल कर रहा है और इस बात से तो सभी लोग परिचित हैं कि अगर आपके फ़ोन में internet नहीं है तो आपका phone एक तरह से डब्बा है |

जबसे internet का अविष्कार हुआ है, तब से लोगों ने memory card (चिप) का इस्तमाल करना बंद कर दिया है | अब सभी लोग songs , movies आदि को internet की सहायता से online सुनकर व देखकर entertainment (मनोरंजन) करने लगे हैं |

हालाँकि smartphone में memory card लगाने की जरुरत नहीं होती है | क्यूंकि उसमे पहले से ही memory card ROM (Read Only Memory) के रूप available रहती है |

आइये सबसे पहले जानते हैं कि इन्टरनेट क्या है (What is internet in hindi).

इन्टरनेट क्या है (What is Internet in hindi)

what is internet in hindi

Internet को हिंदी में अंतरजाल कहा जाता है | जो कि हमारी भारतीय संस्कृती के एक पुराने शब्द इंद्रजाल के आधार पर रखा गया है |

लगभग सन 1970 में जब personal computer का समय आरम्भ हुआ था, तब कुछ कंपनियों ने LAN (Local Area Network) का आविष्कार किया था ताकि दो या दो से अधिक computers के बीच आसानी से data को transmit किया जा सके |

लेकिन फिर जब धीरे-धीरे internet की उपयोगता बड़ी तो उस समय LAN से भी बड़े network की आवश्यकता होने लगी |

तो इसके लिए WAN (Wide Area Network) को develop किया गया | WAN काफी ज्यादा उपयोगी साबित हुआ LAN के मुकाबले क्योंकि ये पूरे विश्व में data को transmit करने की क्षमता रखता है |

धीरे-धीरे computer network का विकास हुआ और फिर इसके लिए और अच्छे Transmitor की जरूरत हुई, तभी इसके लिए अमेरिकी रक्षा विभाग ने Advance Research Project Agency को विकशित किया |

इसी agency ने internetwork नामक एक तकनीक को विकशित किया और फिर बाद में इसी तकनीक का नाम internet पड़ गया |

चलिए what is internet in hindi में आगे जानते हैं |

इन्हें भी पढ़ें :-

इन्टरनेट का विकास (Developement of Internet in hindi)

Internet की स्थापना अमेरिकी रक्षा विभाग ARPA ने सन 1969 के अंतिम दशक में की थी | सर्वप्रथम इसे ARPA NET के नाम से पुकारा गया था |

आरम्भ में सबसे पहले ये सैन्य विभाग में उपयोग किया गया था परन्तु बाद में इसे कुछ कंपनियों से जोड़ दिया गया जो इसमें शौध कर रही थीं | तब इसे Internet नाम दिया गया |

इन्टरनेट कैसे बनता है (Internet kaise banta hai)

काफी लोगों को ऐसा पढने में अजीब लग रहा होगा कि internet भी बनता है क्योंकि इसे तो हम 24 घंटे इस्तेमाल करते रहते हैं |

लेकिन दोस्तों ये जो हम internet का इस्तेमाल करते हैं, ये ऐसे ही हमारे पास नहीं पहुँच जाता है |

Internet जो कि एक computer network है | इसे fiber optic cable के माध्यम से जोड़ा जाता है | यही केबल्स data का आदान प्रदान करती हैं |

इन cables की thickness (मोटाई) एक इंसान के बाल जितनी होती है | इन्हें महासागरों से ले जाते हुए पूरे विश्व के computers को एक साथ जोड़ा जाता है |

हम जो online music, movies, games को खेलते, सुनते व देखते हैं या download करते हैं तो इसमें हमारा data खर्च होता है और data इसलिए खर्च होता है क्योंकि जो कंपनियां internet की सुविधा प्रदान करती है वो इस data को अपने पास collect करती हैं और फिर बाद में यही data आपको वापस मिलता है |

ये भी पढ़ें :-

इन्टरनेट हम तक कैसे पहुँचता है (internet ham tak kaise pahunchta hai)

क्या आपने कभी सोचा है कि जिस internet का आप 24 घंटे उपयोग करते हैं वो आखिर आप तक पहुँचता कैसे है |

कुछ लोगों का मानना है कि internet satellite के जरिये हम तक पहुँचता है लेकिन उन लोगों को बता दें कि satellite के जरिये हम तक लगभग सिर्फ 1% ही internet पहुँचता है और बाकी का 99% इन्टरनेट optic cables के माध्यम से हम तक पहुँचाया जाता है |

जी हाँ इन इंसानों के बाल जितनी पतली optic cables को समुद्र में काफी गहराई पर बिछाया जाता है और इन्ही के द्वारा सभी computer networks में data को transmit किया जाता है |

कैसे इन्टरनेट को पूरे विश्व में फैलाया गया (kaise internet ko poori duniya me failaya gaya)

दोस्तों इन optic cables को पूरे विश्व बड़ी बड़ी कंपनियों के द्वारा फैलाया गया था | दुनिया की कई बड़ी कंपनियों ने अपना पैसा लगाकर optic cables को पूरी दुनिया में बिछाया और इन कंपनियों को हम “टियर 1” के नाम से जानते हैं |

ISP के द्वारा हमें internet की सुविधा Provide की जाती है | ISP का पूरा नाम Internet Service Provider होता है |

इन कंपनियों का तीन भागों में विभाजन किया गया है |

  • टियर – 1
  • टियर – 2
  • टियर – 3

टियर 1 –

वो कंपनियां जिन्होंने अपने पैसे लगाकर optic cables को बिछाया है | ऐसी कंपनियां टियर -1 के नाम से जानी जाती हैं |

टियर 2 –

टियर 2 कंपनियों के पास इतना पैसा नहीं होता है की ये खुद की Optical cables बिछा सके इसलिए ये कम्पनियां टियर 1 कंपनियों से internet लेकर हमें provide करती है और बदले में हमसे पैसे लेती हैं | हमसे लिए हुए पैसे में से ये कम्पनियां अपना comission रखकर बाकी का पैसा टियर 1 कंपनियों को दे देती हैं |

टियर 3 –

टियर 2 कंपनियों की तरह ही टियर – 3 कंपनियां भी अपना कार्य करती हैं लेकिन ऐसी कंपनियों टियर 2 कंपनियों से internet लेकर हमें provide करती हैं |

दोस्तों अब what is internet in hindi में इन्टरनेट के कुछ लाभों के बारे में जानते हैं |

ये भी पढ़ें :-

इन्टरनेट के लाभ (Advantages of Internet in hindi)

Internet के कुछ लाभ निम्न प्रकार से हैं :-

  1. Internet की सहायता से e-mail send की जाती है |
  2. Internet की मदद से विभिन्न प्रकार के game खेले जा सकते हैं |
  3. Internet की मदद से हम internet की बहुत मनोरंजक क्रिया का लुफ्त उठा सकते हैं जिसे chatting कहते हैं |
  4. internet की सहायता से online shopping की जा सकती है |
  5. Internet की सहायता से अपनी website बनाकर competition में हिस्सा लिया जा सकता है |
  6. Internet की मदद से व्यापार भी किया जा सकता है |

चलिए उन domain के बारे में जानते हैं जो सामान्तः काफी प्रचलित हैं :-

  1. com – जैसा कि हम सब जानते हैं कि यह काफी प्रचलित domain है | यह व्यावसायिक संस्थानों के लिए उपयोग किया जाता है | इसका पूरा नाम commercial है |
  2. edu – इसका पूरा नाम education है | यह शैक्षिक संस्थानों के लिए उपयोग किया जाता है |
  3. gov – सरकारी संस्थानों के लिए इस domain का इस्तेमाल किया जाता है | इसका full form – government होता है |
  4. mil – ये सैन्य (सैनिक) विभागों के लिए उपयोग की जाने बाली domain है | इसका पूरा नाम military है |
  5. net – इसका इस्तमाल networks के लिए किया जाता है | इसका पूरा नाम network resources है |
  6. co – इसका पूरा नाम company है | इसका इस्तमाल सूचीबद्ध संगठनों के लिए किया जाता है |
  7. org – ये गैर-सरकारी और गैर-व्यावसायिक संस्थायों के लिए उपयोग में लायी जाती है | इसका full form है – usually non-profit organization होता है |

हर देश के लिए अपना domain होता है (Every country have a specific domain name)

जैसे किसी website के अंत में .in का उपयोग address बताने के लिए किया जाता है की ये भारत में स्थित है | वैसे ही अलग अलग देशों के अलग अलग संक्षिप्त नाम होते हैं :-

कुछ देशों के संक्षिप्त नाम निम्नवत हैं :-

  1. भारत के लिए in का प्रयोग किया जाता है |
  2. ऑस्ट्रेलिया के लिए au का प्रयोग किया जाता है |
  3. फ्रांस के लिए fr का प्रयोग किया जाता है |
  4. डेनमार्क के लिए dk का प्रयोग किया जाता है |
  5. जापान के लिए jp का प्रयोग किया जाता है |
  6. न्यूज़ीलैण्ड के लिए nz का प्रयोग किया जाता है |
  7. यूनाइटेड किंगडम के लिए uk का प्रयोग किया जाता है |
  8. कनाडा के लिए ca का प्रयोग किया जाता है |

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों आज के topic इन्टरनेट क्या है (What is internet in hindi) में हमने internet के बारे में पूरे विस्तार में जाना है की इन्टरनेट क्या होता है, ये कैसे बनता है और हमारे फ़ोन तक कैसे पहुंचता है |

इस लेख में हमने आपको domain name के बारे में भी जानकारी दी है और ज्यादातर सभी मुख्य देशों के domain name के बारे में भी बताया है |

आशा करता हूँ की आपको इन्टरनेट क्या है (What is internet in hindi) के इस लेख में आपको internet के बारे में पूरी जानकारी हो गयी होगी | हमारा आपसे निवेदन है की हमारे इस लेख को facebook, whatsapp, twitter आदि के माध्यम से अपने मित्रों और जानने वालों तक जरूर पहुंचाए |

Leave a Response